हुनर हाट

हुनर हाट

भारत में हुनरमंद कारीगरों और शिल्पकारों की एक विस्तृत श्रृंखला और शानदार कला की विरासत है। “हुनर हाट” इस विरासत की राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय ब्रांडिंग में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। भारत सरकार विश्व स्तर पर , राष्ट्रीय स्तर पर, एंव प्रदेश स्तर पर , जनपद, अनुमंडल स्तर पर हुनर हाट का आयोजन कर अनुभवी व पेशेवर कारीगरों व शिल्पकारों को अपनी कला को निखारने का मौका दे रही है।

अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय द्वारा भारत के कारीगरों, शिल्पकारों को हुनर हाट के माध्यम से एक विशाल मंच प्रदान करने की पहल की है ताकि वे अपनी विशेषज्ञता का प्रदर्शन कर सकें। सरकार हुनर हाट के माध्यम से भारतीय कारीगरों एवं दस्तकारों को रोजगार एंव रोजगार के अवसर मुहैया करवाती है।

केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री श्री मुख्तार अब्बास नकवी ने अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय द्वारा देशभर के दस्तकारों, शिल्पकारों के स्वदेशी उत्पादनों को लोगों तक पहुंचाने के लिए एक मंच के तौर पर हुनर हाट की शुरुआत की है, जिसका लाभ भी लाखों शिल्पकारों एवं दस्तकारों को मिल रहा है।

समय के साथ हुनर हाट भारतीय कारीगरों औऱ शिल्पकारों की स्वदेशी प्रतिभा का एक विश्वसनीय ब्रांड साबित हो रहा है। हुनर हाट ने देश के कारीगरों औऱ शिल्पकारों का गरिमा के साथ विकास सुनिश्चित किया है। हुनर हाट के माध्यम से लघु और मध्यम वर्ग के उद्दोगों को नई ऊंचाई मिल रही है।

क्या है हुनर हाट?

हुनर का मतलब होता है, किसी भी कला या विधा में पारंगत। हाट का अर्थ बाजार होता है। इस तरह से हुनर हाट का मतलब हुआ ऐसे कारीगरों का बाजार जहां उनकी चीजें बिकती हैं। हुनर हाट के जरिये सरकार देशभर के परंपरागत दस्तकारों, शिल्पकारों और खानसामों को प्रोत्साहित कर रही है। हुनर हाट का आयोजन केंद्रीय अल्पसंख्यक मंत्रालय द्वारा उस्ताद योजना के तहत किया जाता है। उस्ताद योजना का उद्देश्य भारत के अल्पसंख्यक समुदाय की परंपरागत कला तथा शिल्प की धरोहर का संरक्षण करना है। इसके लिए उनके कौशल में वृध्दि की जाती है।

"हुनर हाट" ई प्लेटफार्म के साथ ही GeM पोर्टल पर भी उपलब्ध

"हुनर हाट" ई प्लेटफार्म http://hunarhaat.org के साथ ही GeM पोर्टल पर भी देश-विदेश के लोगों के लिए उपलब्ध है। इस पोर्टल के माध्यम से आम लोग सीधे कारीगरों, दस्तकारों, शिल्पकारों के स्वदेशी उत्पादों को देख व खरीद सकते हैं।

हुनर हाट के माध्यम से भारतीय कारीगरों के बेहतरीन उत्पादों को वैश्विक बाजार तक पहुंचाने के लिए प्रयास किय़ा जा रहा है। हुनर हाट के अब तक 28 संस्करण पूरे देश में आयोजित किए गए हैं जो “सशक्तिकरण और रोजगार विनिमय” साबित हुए हैं। अब तक 10 लाख से अधिक शिल्पकारों, कारीगरों और खानसामों को रोजगार के अवसर प्रदान किए हैं, जिसमें बड़ी संख्या में महिलाएं भी शामिल हैं।