Speeches



नई दिल्ली02 फरवरी2016: नई दिल्ली में "इंडिया अगेंस्ट टेररिज्म" के प्रतिनिधिमंडल से भेंट की प्रेस विज्ञप्ति 

नई दिल्ली02 फरवरी2016:  केंद्रीय संसदीय एवं अल्पसंख्यक मामलों के राज्यमंत्री श्री मुख़्तार अब्बास नक़वी ने आज यहाँ कहा कि पंथनिरपेक्षता और राष्ट्रवाद की ताकत, आतंकवाद और कट्टरवाद को परास्त करने का मजबूत हथियार है।  

श्री नक़वी ने कहा कि भारत में समरसता, पंथनिरपेक्षता का चोली-दामन का साथ है। हमें इस लोकतांत्रिक विरासत की रक्षा करनी चाहिए और इसे समाज की तरक्की, भाईचारे, एकता का हथियार बना कर देश में 'बिखराव-टकराव" पैदा करने वाली ताकतों के विरूद्ध इस्तेमाल करना चाहिए।

श्री नक़वी ने यहाँ नौजवानों के संगठन "इंडिया अगेंस्ट टेररिज्म" के एक प्रतिनिधिमंडल से भेंट के दौरान कहा कि आतंकवाद को किसी भी धर्म से जोड़ना गलत है। आतंकवाद को किसी धर्म विशेष से जोड़ने से आतंकवादी अपनी चाल में कामयाब हो जायेंगे। हमें इस बात का ध्यान रखना होगा। हमें सचेत रहना होगा कि आतंकवादियों, चरमपंथियों के समाज में विभाजन की साजिश को एकता और सौहार्द की ताकत से परास्त करना है।   

श्री नक़वी ने कहा कि “सेक्युलरिज्म का सियासी शोषण”और “कम्युनलिज्म का सियासी शगूफा” बंद होना चाहिए और हमें देश की शानदार सांस्कृतिक विरासत और संवैधानिक मूल्यों की मजबूत राह पर चलना होगा जिससे कि देश के "सेक्युलर और संवैधानिक स्वरूप" को सुरक्षित रखा जा सके।       

श्री नक़वी ने कहा कि "सेलेक्टिव सेक्युलरिज्म" भारत के सेक्युलर डेमोक्रेटिक कैरेक्टर के लिए एक बड़ी समस्या है। धर्मनिरपेक्षता को समाज को जोड़ने और सौहार्द का हथियार बनाने के बजाय हमारे कुछ "सेक्युलरिज्म के सियासी सूरमाओं" ने “सियासी शोषण” का हथियार बना लिया है जिसके चलते पंथनिरपेक्षता की मूल संवैधानिक आत्मा आहत हुई है। 

श्री नक़वी ने  कहा कि भारत को दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र होने के साथ-साथ महान पंथनिरपेक्ष राष्ट्र होने का गौरव प्राप्त है। विभिन्न मजहबों,भाषा, वेशभूषा और क्षेत्रीय सभ्यता के बावजूद हमारा देश और लोग "धार्मिक फतवों, संदेशों" से नहीं, संवैधानिक मूल्यों और सिद्धांतों से चलते हैं। 

श्री नक़वी ने कहा कि आतंकवाद और कट्टरवाद के खिलाफ लड़ाई में युवाओं की महत्वपूर्ण भूमिका है। युवाओं को आतंकी समूहों के शैतानी मंसूबों से खुद भी सतर्क रहना होगा और मानवता के दुश्मन आतंकी समूहों के खिलाफ राष्ट्रीय स्तर पर समाज में "जागरूकता जंग" छेड़नी होगी।

श्री नक़वी ने कहा कि केंद्र की प्रधानमन्त्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली एनडीए की सरकार ने आतंकवाद के खिलाफ “जीरो टॉलरेंस” की नीति अपनायी है जिससे आतंकवादी और उनके आका हताश-निराश हैं। ऐसी हताश-निराश ताकतों की कायराना कोशिश मुल्क की एकता की ताकत से नाकाम की जा सकती है।