Speeches



बेंगलुरु, 30 जनवरी, 2016: बेंगलुरु में एन.ए. ग्लोबल लॉ स्कूल के कैंपस के उद्धघाटन और अमेरिकन अकादमी ऑफ़ इम्प्लांट डेंटिस्ट्री के 12वे बैच के दीक्षांत समारोह के अवसर पर मेरे भाषण की प्रेस विज्ञप्ति:

 

बेंगलुरु में एन.ए. ग्लोबल लॉ स्कूल के कैंपस के उद्धघाटन और अमेरिकन अकादमी ऑफ़ इम्प्लांट डेंटिस्ट्री के 12वे बैच के दीक्षांत समारोह के अवसर पर मेरे भाषण की प्रेस विज्ञप्ति:

बेंगलुरु, 30 जनवरी, 2016: केंद्रीय संसदीय एवं अल्पसंख्यक कार्य राज्यमंत्री श्री मुख़्तार अब्बास नक़वी ने आज कहा कि मजहब को सुरक्षा कवच बना कर दुनिया में अपनी शैतानी हरकते कर रही ताकतों के बारे में देश के शिक्षण संस्थानों को जागरूकता अभियान चलाना चाहिए ताकि देश के युवा इन तत्वों द्वारा गुमराह ना हो सकें।

बेंगलुरु में एन.ए. ग्लोबल लॉ स्कूल के कैंपस के उद्धघाटन और अमेरिकन अकादमी ऑफ़ इम्प्लांट डेंटिस्ट्री के 12वे बैच के दीक्षांत समारोह के अवसर पर छात्रों को सम्बोधित करते हुए श्री नक़वी ने कहा कि मुझे ख़ुशी है कि कुछ छिट-पुट घटनाओं को छोड़ कर ISIS एवं अलकायदा जैसे आतंकी समूह भारत में अपनी जड़ें जमाने में नाकाम रहे हैं, हमें ऐसी आतंकवादी ताकतों के खिलाफ लड़ाई जारी रखनी होगी।

श्री नक़वी ने कहा कि आज पूरा विश्व एकजुट हो कर ऐसी "बारूदी मानसिकता और शैतानी सोच" का खात्मा कर रहा है। ऐसी ताकतों का ना तो किसी धर्म से कोई रिश्ता है ना सिद्धांत से नाता।“इनका धर्म और सिद्धांत विश्व में मानवीय मूल्यों को ख़त्म कर अपना शैतानी साम्राज्य स्थापित करने का सपना है।“

आतंकवाद और कट्टरवाद को पूरे विश्व के लिए सबसे बड़ा खतरा बताते हुए, श्री नक़वी ने कहा कि हमें शिक्षण संस्थानों में सभी धर्मों के उन सिद्धांतों की शिक्षा देनी होगी जो आतंकवाद, खून-खराबे और हिंसा के सख्त खिलाफ हैं, क्योंकि ऐसी आतंकवादी ताकतें धर्म को अपनी सुविधा के हिसाब से गढ़ कर लोगों को गुमराह करने के अभियान में लगी हैं।

श्री नक़वी ने कहा कि भारत की एकता, सौहार्द और भाईचारे की ताकत के कारण ही ISIS और अन्य आतंकी समूह अपनी जड़ें नहीं जमा पाये हैं लेकिन फिर भी हमें इन आतंकी समूहों को लेकर सतर्क रहना होगा। इन समूहों द्वारा युवाओं को गुमराह करने के मंसूबों को ध्वस्त करने के लिए राष्ट्रीय स्तर पर जागरूकता अभियान चलाने की जरुरत है। केंद्र सरकार के साथ-साथ राज्य सरकारों, सुरक्षा एवं ख़ुफ़िया एजेंसियों, धर्म गुरुओं, शिक्षण संस्थानों, प्रबुद्ध लोगों एवं मीडिया को साथ मिलकर इस जागरूकता अभियान का हिस्सा बनना होगा।

श्री नक़वी ने कहा कि हाल की आतंकी घटनाओं और गिरफ्तारियों से यह साफ हो गया है कि ISIS जैसे समूह भारत पर भी अपनी बुरी नजर रख रहे हैं, वो हमारे देश की शांति, सौहार्द, समृद्धि के माहौल को ख़राब करना चाहते हैं। दरअसल यह ताकतें इंसानियत और इस्लाम दोनों की दुश्मन हैं।

अपनी इस शैतानी योजना में ये आतंकी समूह धर्म को सुरक्षा कवच बना रहे हैं। हमें इनकी हरकतों से सतर्क रहना होगा। अगर हम आतंक को किसी एक धर्म या संप्रदाय से जोड़ कर देखेंगे तो ये समूह अपने मंसूबों में कामयाब हो जायेंगे। क्योंकि यह ताकतें समाज में बिखराव-टकराव को अपनी शैतानी हरकतों का हथियार बनाती हैं। हमें उनके मंसूबों से सचेत रह कर एकता की डोर को कमजोर नहीं पड़ने देना है।

श्री नक़वी ने कहा कि युवाओं को यहं समझना होगा कि वो ऐसे आतंकी समूहों के झांसे में आ कर गुमराह ना हों। केंद्र की प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार युवाओं को एक बेहतर भविष्य देने के प्रति समर्पित है। प्रत्येक युवा अच्छी शिक्षा, कौशल हासिल कर बेहतर रोजगार प्राप्त कर देश के विकास में अपना योगदान दे, इस संकल्प के साथ हम काम कर रहे हैं।

श्री नक़वी ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा शुरू किये गए "स्किल इंडिया", "मेक इन इंडिया", "स्टार्टअप इंडिया" जैसे कार्यक्रम युवाओं को अपार संभावनाएं मुहैया कराएँगे। देश के सौहार्द एवं समृद्धि के ताने-बाने को मजबूत करना हम सबका धर्म है। अल्पसंख्यक शिक्षण संस्थानों को तकनीकी एवं मुख्यधारा की शिक्षा के अवसर मुहैया कराने हेतु दूर-दराज के गांव तक काम करना चाहिए।