Speeches



12 जनवरी, 2016:रांची  में मेरे दौरे की प्रेस विज्ञप्ति:

रांची में मेरे दो-दिवसीय दौरे की प्रेस विज्ञप्ति:

रांची, 12 जनवरी, 2016: केंद्रीय संसदीय एवं अल्पसंख्यक मामलों के राज्यमंत्री एवं वरिष्ठ भाजपा नेता श्री मुख्तार अब्बास नक़वी ने आज यहाँ कहा कि कांग्रेस को "राष्ट्रीय सुरक्षा का अंतर्राष्ट्रीय विशेषज्ञ" बनने की कोशिश नहीं करनी चाहिए, ऐसे “अज्ञानी विश्लेषकों” के विश्लेषण से बात बनती कम है बिगड़ती ज्यादा।

श्री नक़वी ने रांची के अपने दो-दिवसीय दौरे के दूसरे दिन पत्रकार वार्ता को सम्बोधित करते हुए कहा कि जिन लोगों के हाथों में राष्ट्रीय सुरक्षा की जिम्मेदारी है वह हाथ मजबूत और देश की सुरक्षा के संकल्प से भरपूर हैं। उन्हें अपना काम करने देना चाहिए।

श्री नक़वी ने कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा एवं आतंकवाद जैसे संवेदनशील मुद्दों पर मोदी सरकार और देश के सुरक्षा बल-सुरक्षा एजेन्सियां मजबूत राष्ट्रवादी संकल्प के साथ काम कर रहे हैं, जिसका नतीजा है कि आज भारत के साथ पूरा विश्व खड़ा है और आतंकवाद को संरक्षण देने वाली और प्रायोजित कर रही ताकतें अलग-थलग पड़ गई हैं।

श्री नक़वी ने कहा कि दुख की बात है कि जब पूरा देश आतंकवाद के मुद्दे पर एक स्वर में, एक संकल्प के साथ बोल रहा हो तो कांग्रेस के कुछ नेता ऐसे गंभीर मुद्दों पर भी गैर जिम्मेदाराना और भ्रम पैदा करने के “राजनैतिक अभियान”में लगे हैं।

श्री नक़वी ने कहा कि कांग्रेस का हर दूसरा नेता और कुछ लोग ऐसे बात कर कर रहे हैं जैसे वो "राष्ट्रीय सुरक्षा मामलों का अंतर्राष्ट्रीय एक्सपर्ट” हो और ज्ञान दे रहे हैं कि "ऐसा होता तो आतंकवादी पठानकोट ना आ पाते, ऐसा करते तो राष्ट्रीय सुरक्षा को सेंध ना लगती।“ ऐसे “महान कांग्रेसी ज्ञानियों” के उनके दस वर्षों के शासनकाल में यह सब "एक्सपर्ट कमेंट" नहीं सुनाई पड़े थे।

श्री नक़वी ने ऐसे नेताओं और लोगों से अपील की है कि अज्ञानता से भरे अपने "भ्रम भाषण" बंद करें। हमारे सुरक्षा बल-सुरक्षा एजेन्सियां अच्छी तरह जानती हैं कि "देश के दुश्मनों" से कैसे निपटना है।

श्री नक़वी ने कहा कि कांग्रेस के नेताओं को ऐसा कोई भी बयान देने से बचना चाहिए जिससे राष्ट्रीय सुरक्षा जैसे संवेदनशील मुद्दों पर भ्रम की स्थिति पैदा हो। इसे देश कभी स्वीकार नहीं करेगा। राष्ट्रीय सुरक्षा और आतंकवाद पर देश का स्वर और संकल्प मजबूत है और देश की सुरक्षा, सम्मान पुरे देश की प्राथमिकता है।

श्री नकवी ने अपने दौरे में प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के जनता से सीधे संवाद के तहत सिकिदिरी, टाटीसिलवे, नवागढ़ आदि क्षेत्रों में जन-सभाएं, जन-पंचायते, प्रबुद्ध नागरिक सम्मलेन कर आम जनता, आदिवासियों, दलितों, अल्पसंख्यकों, युवाओं,महिलाओं, किसानों, उद्योग जगत के प्रतिनिधियों से मुलाकात कर उन्हें केंद्र सरकार की जन कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी दी साथ ही आगामी आम बजट के लिए उनसे सुझाव भी मांगे।

श्री नक़वी ने जन-सभाओं में लोगों को सम्बोधित करते हुए कहा कि मोदी सरकार ने अपने लगभग 19 महीनों के कार्यकाल के दौरान समाज के हर तबके के संपूर्ण विकास के लिए पूरी ईमानदारी से काम किया है।

सरकार ने गरीबों,किसानों, आदिवासियों, दलितों, अल्पसंख्यकों, युवाओं, महिलाओं हर वर्ग के आर्थिक-सामाजिक-शैक्षणिक सशक्तिकरण के लिए विभिन्न योजनाएं शुरू की हैं। श्री नक़वी ने कहा कि पारदर्शिता और मजबूत इरादों के साथ क्रियान्वयन के कारण इन कल्याणकारी योजनाओं का जमीनी स्तर पर असर दिखना शुरू हो गया है। "सबका साथ सबका विकास'' का लक्ष्य पूरा होता जा रहा है।

श्री नक़वी ने कहा कि एनडीए सरकार की सुशासन से भरपूर गरीबों के हितों पर केंद्रित आर्थिक नीतियों का ही नतीजा है कि जीडीपी की विकास दर 7 प्रतिशत तक पहुँच गई है। मोदी सरकार ने आर्थिक सुधार की दिशा में अहम प्रयास शुरू किये हैं। जीएसटी बिल, रियल एस्टेट बिल इसी प्रयास का हिस्सा हैं। जहाँ जीएसटी कराधान मामलें में एक ऐतिहासिक कदम है वहीँ रियल एस्टेट बिल "सभी को घर" के लक्ष्य को पूरा करने में अहम भूमिका निभाएगा। आने वाले दस वर्षों सभी को "3R-रोटी, रोजी, रेजिडेंस (मकान)" का लक्ष्य पूरा करेंगे।