Speeches



नई दिल्ली, 06 अक्टूबर, 2020: वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग के माध्यम से केंद्रीय शिक्षा मंत्री श्री डा. रमेश पोखरियाल “निशंक” के साथ पाकुड़, झारखण्ड में नए जवाहर नवोदय विद्यालय के शिलान्यास की मेरी प्रेस विज्ञप्ति:

केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री श्री मुख्तार अब्बास नकवी ने आज यहाँ कहा कि केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय देश भर में कमजोर, पिछड़े एवं अल्पसंख्यक क्षेत्रों में देश के इतिहास में पहली बार 99 जवाहर नवोदय विद्यालयों का निर्माण कर रहा है और इनमें से कई जवाहर नवोदय विद्यालयों का निर्माण केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय और केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय साथ मिलकर कर रहे हैं।
श्री नकवी ने आज केंद्रीय शिक्षा मंत्री श्री डा. रमेश पोखरियाल “निशंक” के साथ नए जवाहर नवोदय विद्यालय, पाकुड़-II (झारखण्ड) का शिलान्यास वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग के माध्यम से किया। इस जवाहर नवोदय विद्यालय का निर्माण अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय द्वारा "प्रधानमंत्री जन विकास कार्यक्रम" के तहत किया जा रहा है।
श्री नकवी ने बताया कि इसके अलावा अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय द्वारा "प्रधानमंत्री जन विकास कार्यक्रम" के तहत उत्तर दिनाजपुर और हावड़ा (पश्चिम बंगाल); पश्चिम कामेंग (अरुणाचल प्रदेश); मामित (मिजोरम) में 4 जवाहर नवोदय विद्यालय का निर्माण केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय के साथ मिल कर किया जा रहा है। इसके लिए केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय 244 करोड़ रूपए का सहयोग कर रहा है। इसके अलावा अन्य स्थानों पर भी केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय, शिक्षा मंत्रालय के साथ मिलकर जवाहर नवोदय विद्यालयों का निर्माण कराएगा।
श्री नकवी ने कहा कि अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय ने पिछड़े एवं अल्पसंख्यक बाहुल्य क्षेत्रों में जवाहर नवोदय विद्यालयों में 1173 स्मार्ट क्लासरूम बनाने हेतु 36 करोड़ की राशि दी है।
श्री नकवी ने कहा कि इन जवाहर नवोदय विद्यालयों के निर्माण से ग्रामीण क्षेत्रों में पिछड़े एवं अल्पसंख्यक वर्ग के बच्चों को भी गुणवत्तापूर्ण आधुनिक शिक्षा उपलब्ध कराने में मदद मिलेगी।
श्री नकवी ने कहा कि पिछले लगभग 6 वर्षों के दौरान प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार ने "प्रधानमंत्री जन विकास कार्यक्रम" (पीएमजेवीके) के तहत देश भर के पिछड़े एवं अल्पसंख्यक बाहुल्य क्षेत्रों में आर्थिक-शैक्षिक-सामाजिक एवं रोजगारपरक गतिविधियों के लिए बड़ी संख्या में इंफ़्रास्ट्रक्चर का निर्माण कराया है।
श्री नकवी ने कहा कि पिछले 6 वर्षों में "प्रधानमंत्री जन विकास कार्यक्रम" के तहत समाज के सभी
जरूरतमंद वर्गों को समान अवसर मुहैया कराने के संकल्प के साथ पिछड़े एवं अल्पसंख्यक क्षेत्रें में 34 हजार से ज्यादा स्कूल-कॉलेज, अस्पताल, हॉस्टल, कम्युनिटी सेन्टर, कॉमन सर्विस सेन्टर, आई0टी0आई0 पॉलिटेक्निक, गर्ल्स हॉस्टल, सद्भावना मण्डप, हुनर हब आदि का निमार्ण कराया गया है। जबकि 2014 से पहले मात्र 22 हजार ऐसी सुविधाओं का निर्माण किया गया था। 2014 से पहले देश के केवल 90 जिले "प्रधानमंत्री जन विकास कार्यक्रम" के अंतर्गत शामिल थे, वहीँ अब इसका दायरा बढ़ा कर 308 जिलों तक कर दिया गया है।
श्री नकवी ने कहा कि मोदी सरकार के "समावेशी विकास-सर्वस्पर्शी सशक्तिकरण" का नतीजा है कि जहाँ 2014 से पहले मात्र 2 करोड़ 94 लाख अल्पसंख्यक विद्यार्थियों को छात्रवृत्ति दी गई थी, वहीँ 2014 के बाद 6 वर्षों में 4 करोड़ 60 लाख छात्र-छात्राओं को स्कॉलरशिप्स दी गई हैं।
श्री नकवी ने कहा कि मोदी सरकार में स्कॉलरशिप्स पाने वाले 4 करोड़ 60 लाख विद्यार्थियों में 50 प्रतिशत से ज्यादा लड़कियां शामिल हैं। जिसका नतीजा है कि अल्पसंख्यकों विशेषकर लड़कियों का स्कूल ड्रॉपआउट रेट बड़े पैमाने पर घटा है और आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों के बच्चे स्कूलों में शिक्षा हासिल कर रहे हैं।