Speeches



जयपुर, 04 मई 2019: आज जयपुर में चुनावी सभा में मेरे सम्बोधन के मुख्य अंश:

केंद्रीय मंत्री एवं वरिष्ठ भाजपा नेता श्री मुख्तार अब्बास नकवी ने आज यहाँ कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने पिछले पांच सालों में "भ्रष्टाचार को वेंटीलेटर" पर और "विकास को एक्सेलरेटर” पर ला कर खड़ा किया है जिसके चलते "घोटालों के गुरुघंटाल" घुटन महसूस कर रहे हैं।

जयपुर में भाजपा उम्मीदवार श्री रामचरण बोहरा के पक्ष में आयोजित सभा को सम्बोधित करते हुए श्री नकवी ने कहा कि मोदी सरकार का इन पांच वर्षों में समाज के सभी वर्गों को "तरक्की के समान अवसर" मुहैय्या कराना एक बड़ी और महत्वपूर्ण उपलब्धि है।

श्री नकवी ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने इन पांच वर्षों में “विकास के मसौदे” को “वोट के सौदे” के संकीर्ण “राजनैतिक चक्रव्यूह” से बाहर निकाल कर समाज के सभी जरूरतमंदों को "तरक्की के समान अवसर" उपलब्ध कराये हैं।

श्री नकवी ने कहा कि समाज का कोई वर्ग यह नहीं कह सकता कि जाति-धर्म-क्षेत्र-राज्य के आधार पर उसके विकास में भेद-भाव हुआ हो, सभी को सामाजिक-आर्थिक-शैक्षिक विकास के बराबर के अवसर मुहैय्या कराये गए हैं।

श्री नकवी ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने पिछले 5 वर्षों के दौरान सरकार के स्थायित्व ही नहीं बल्कि इकबाल का भी दशकों बाद एहसास कराया है। मोदी सरकार ने पांच वर्षों में "पालिसी पैरालिसिस" को ख़त्म कर आखिरी पायदान पर खड़े व्यक्ति को ध्यान में रख कर "कड़े और बड़े" सुधारवादी फैसले लिए हैं। मोदी सरकार, "इकबाल, इंसाफ और ईमान की सरकार" साबित हुई है।

श्री नकवी ने कहा कि मोदी सरकार ने हर कल्याणकारी योजना को सीधे लाभार्थी तक पहुंचाने के लिए 100 प्रतिशत डीबीटी (डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर) की व्यवस्था की, "लीकेज-लूट" पर लगाम लगायी है। "भ्रष्टाचार के स्पीड ब्रेकर" को ध्वस्त कर "विकास का मजबूत हाई-वे" तैयार किया है।

श्री नकवी ने कहा कि कांग्रेस, देश में "कॉन्ट्रैक्ट प्राइम मिनिस्टर" चाहती है "परफेक्ट प्राइम मिनिस्टर" नहीं। कांग्रेस ऐसी सरकार चाहती है जिसे वो "रिमोट" से चला सके। लेकिन देश ऐसी स्थिति नहीं चाहता जहाँ 6 महीने एक प्रधानमंत्री रहे, तो अगले 6 महीने कोई दूसरा। देश "परफेक्ट प्राइम मिनिस्टर" चाहता है, "कॉन्ट्रैक्ट प्राइम मिनिस्टर" नहीं। देश को पता है कि "परफेक्ट प्राइम मिनिस्टर" हैं श्री नरेंद्र मोदी जो देश की सुरक्षा-समृद्धि के संकल्प का नाम हैं।