Speeches



उदवाडा (वलसाड), गुजरात, 23 दिसंबर, 2017: गुजरात के उदवाडा (वलसाड) में "ईरानशाह उदवाडा उत्सव 2017" के दौरान मेरे सम्बोधन के मुख्य अंश:

केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री श्री मुख्तार अब्बास नकवी ने आज यहाँ कहा कि भारत के सामाजिक सौहार्द एवं सद्भाव को मजबूत बनाये रखने में पारसी समुदाय का बड़ा ही महत्वपूर्ण योगदान रहा है।

गुजरात के उदवाडा (वलसाड) में "ईरानशाह उदवाडा उत्सव 2017" के दौरान श्री नकवी ने कहा कि पारसी समुदाय का भारत के निर्माण में बहुमूल्य योगदान रहा है और पारसी समुदाय अपनी संस्कृति-संस्कार के लिए हमेशा से ही अन्य समुदायों के लिए एक "रोल मॉडल" रहा है। पारसी समुदाय ने ऐसे कई महान लोग दिए हैं जो “भारत निर्माण के आर्किटेक्ट” रहे हैं।

इस उत्सव में दुनिया भर से बड़ी संख्या में पारसी समुदाय के लोग उपस्थित रहे।

श्री नकवी ने कहा कि भारत में पारसी समुदाय भले ही जनसँख्या के लिहाज से छोटा अल्पसंख्यक समुदाय हो लेकिन इसमें कोई दो राय नहीं है कि पारसी समाज उदारवादी, शिक्षा के प्रति जागरूक एवं शांति-सौहार्द का उदाहरण है।

श्री नकवी ने कहा कि जमशेतजी टाटा का भारत को उद्योग क्षेत्र में अपने पैरों पर खड़ा करने में योगदान, दादाभाई नौरोजी और भीकाजी कामा द्वारा स्वतंत्रता संग्राम के दौरान देश की सेवा, होमी भाभा का भारत को एटॉमिक शक्ति बनाने में योगदान भारत के समृद्ध इतिहास का अभिन्न भाग है। फील्ड मार्शल सैम मानेकशॉ के सैन्य योगदान का भी अपना महत्व है। चाहे उद्योग हो, सेना हो, कानूनी पेशा हो, वास्तुकला हो या सिविल सेवाएं हो, पारसी समुदाय ने हर जगह शीर्ष पर पहुंचने की क्षमता दिखाई है।

श्री नकवी इससे पहले "फायर टेम्पल" सहित उदवाडा में स्थित पारसियों के अन्य पवित्र स्थलों पर भी गए।

श्री नकवी ने इस अवसर पर नई "जियो पारसी" फिल्म को भी लांच किया। श्री नकवी ने कहा कि पारसी समुदाय की घटती जनसँख्या चिंता का विषय है। भारत में पारसी समुदाय की घटती जनसँख्या को रोकने के लिए अल्पसंख्यक मंत्रालय "जियो पारसी" योजना चला रहा है। मुंबई में "जियो पारसी पब्लिसिटी फेज-2" को जुलाई 2017 में लॉन्च किया गया था। "जियो पारसी पब्लिसिटी फेज-1" की शुरुआत 2013 में की गयी थी। यह योजना पारसी समुदाय की घटती जनसँख्या के प्रति जागरूकता लाने में सफल हो रही है। "जियो पारसी" योजना के माध्यम से 100 से ज्यादा पारसी समुदाय के बच्चों का जन्म हुआ है।

इस योजना का उद्देश्य वैज्ञानिक नवाचार और ढांचागत हस्तक्षेप अपनाकर पारसी आबादी के गिरते रुख को उलटना और भारत में पारसियों की जनसँख्या बढ़ाना है। इस योजना के तहत मंत्रालय द्वारा परामर्श एवं चिकित्सा सहायता मुहैय्या कराई जा रही है।