Speeches



किशनगढ़ बास, अलवर (राजस्थान), 17 दिसम्बर, 2017: किशनगढ़ बास, अलवर (राजस्थान) में आयोजित "प्रोग्रेस पंचायत" में मेरे सम्बोधन एवं विभिन्न विकास योजनाओं के शिलान्यास/लोकार्पण की प्रेस विज्ञप्ति:

 केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री श्री मुख्तार अब्बास नकवी ने आज यहाँ कहा कि हमारा "विकास का मसौदा", "वोट का सौदा" नहीं है और हमारी इसी राष्ट्रनीति से समाज के हर वर्ग की तरह अल्पसंख्यक तबका भी "विकास और विश्वास" के माहौल का बराबर का भागीदार बना है।

अलवर के किशनगढ़ बास में "प्रोग्रेस पंचायत" को सम्बोधित करते हुए श्री नकवी ने कहा कि "प्रोग्रेस पर पलीता लगाने वाले पोलिटिकल पाखंड" को परास्त कर हम "बिना तुष्टिकरण के सशक्तिकरण" एवं "सम्मान के साथ सशक्तिकरण" के रास्ते पर चल रहे हैं। जिसका नतीजा यह हुआ है कि आज गरीबों, कमजोर तबकों, अल्पसंख्यकों तक विकास की रौशनी बिना रोक-टोक के पहुँच रही है। श्री नकवी ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में एनडीए की सरकार ने गांव, गरीब, किसान, नौजवान, महिलाओं को ध्यान में रख कर ही अपनी प्रत्येक नीति बनाई है।

श्री नकवी ने कहा कि मोदी सरकार "रिफार्म, परफॉर्म, ट्रांसफॉर्म" की सरकार है। चाहे देश की सुरक्षा हो, अर्थव्यवस्था हो, सामाजिक बदलाव हो, राजनैतिक सुधार हो, हर मोर्चे पर मोदी सरकार ने कामयाबी का परचम लहराया है।

श्री नकवी ने कहा कि "दिल्ली के सत्ता के गलियारे" से "लूट लॉबी" पर तालेबंदी से सरकारी धन का आना-पाई सीधे हर जरूरतमंद तक पहुँच रहा है। श्री नकवी ने कहा कि इस साफ-सुथरी, ईमानदार एवं पारदर्शी व्यवस्था का असर गरीबों, कमजोर तबकों, अल्पसंख्यकों के आर्थिक-सामाजिक-शैक्षिक सशक्तिकरण के मजबूत जमीनी असर के रूप में साफ दिख रहा है।

श्री नकवी ने कहा कि यही "विकास और विश्वास" का माहौल कुछ लोगों को हजम नहीं हो पा रहा है। ऐसे लोग नकारात्मक गतिविधियों के माध्यम से सकारात्मक माहौल को खराब करना चाहते हैं। लेकिन मोदी सरकार किसी भी नकारात्मक एजेंडे को विकास के एजेंडे पर हावी नहीं होने देगी।

2016 को हरियाणा के मेवात जिले से शुरू की गई "प्रोग्रेस पंचायत" हरियाणा के अलावा उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश एवं अन्य कई राज्यों में लगाई गई है।

श्री नकवी ने कहा कि अल्पसंख्यक मंत्रालय की योजनाएं- "हुनर हाट", "सीखो और कमाओ", "नई मंजिल", "गरीब नवाज कौशल विकास योजना", "नई रौशनी"- अल्पसंख्यकों के कौशल विकास की दिशा में महत्वपूर्ण कदम साबित हुई हैं। तीन वर्षों में इन योजनाओं से 50 लाख से ज्यादा लोगों को रोजगार एवं रोजगार के अवसर मुहैय्या कराने में सफलता मिली है।

केंद्रीय सरकारी नौकरियों में अल्पसंख्यकों की भागीदारी जहाँ 2014 में लगभग 5 प्रतिशत थी वहीँ 2017 में यह 10 प्रतिशत हो गई। श्री नकवी ने कहा कि इस वर्ष सिविल सेवा में 120 से ज्यादा अल्पसंख्यक समुदाय के युवा चयनित हुए हैं जिनमे से 52 मुस्लिम समुदाय से हैं। सिविल सेवा परीक्षा में अल्पसंख्यक वर्ग के सफल उम्मीदवारों की संख्या में लगभग 90 प्रतिशत की बढोतरी हुई है। आजादी के बाद पहली बार अल्पसंख्यक समुदाय के इतने उम्मीदवार सिविल सेवा में चयनित हुए हैं। यही हमारी "बिना तुष्टिकरण के सशक्तिकरण" की नीति का असर है।

श्री नकवी ने कहा कि पिछले लगभग 3 वर्षों के दौरान बहुक्षेत्रीय विकास कार्यक्रम (एमएसडीपी) के तहत अल्पसंख्यक बहुल क्षेत्रों में 4377 स्वास्थ्य केंद्र, 37068 आंगनवाड़ी केंद्र, 10649 पेयजल सुविधाएँ, 32000 अतिरिक्त क्लास रूम, 1817 स्कूल बिल्डिंग, 15 डिग्री कॉलेज, 169 आईटीआई, 48 पॉलीटेक्निक, 248 बहुउद्देशीय “सद्भाव मंडप”, 1064 हॉस्टल, 27 आवासीय स्कूल का निर्माण किया गया है।

अलवर, राजस्थान में "प्रोग्रेस पंचायत" को सम्बोधित करने के साथ-साथ श्री नकवी ने निम्नलिखित विकास परियोजनाओं का शिलान्यास किया- अल्पसंख्यक बॉयज हॉस्टल, दौगड़ा; अल्पसंख्यक गर्ल्स हॉस्टल, बम्बोरा; सद्भाव मंडप, किशनगढ़ बास; बम्बोराघाट से रावका वाया दौगड़ा तक सड़क निर्माण कार्य, किशनगढ़ बास।

इसके अलावा निम्नलिखित योजनाओं का लोकार्पण भी किया: राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, राताखुर्द; राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, माहोन्द; राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, सिरमोली; राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, हरसाना; राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, ककराली मेव; प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, चौपानकी; उपस्वास्थ्य केंद्र, गोतोली एवं उपस्वास्थ्य केंद्र, राईखेड़ा।