Speeches



हैदराबाद, 04 नवम्बर 2017:हैदराबाद में गुरुद्वारा श्री गुरु सिंह सभा द्वारा आयोजित गुरु नानक देवजी महाराज के "गुरुपर्व" के अवसर पर मेरे सम्बोधन की प्रेस विज्ञप्ति:

केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री श्री मुख्तार अब्बास नकवी ने आज यहाँ कहा कि अलग-अलग धर्म, संस्कृति, पूजा पद्धति के बावजूद भारत "अनेकता में एकता" की मिसाल है और सहिष्णुता, सौहार्द, शांति और भाईचारे की संस्कृति ही सभी धर्मों का सार है।

हैदराबाद के एक्जीबिशन ग्राउंड, नामपल्ली रोड में गुरुद्वारा श्री गुरु सिंह सभा द्वारा आयोजित गुरु नानक देवजी महाराज के “गुरुपर्व” के अवसर पर श्री नकवी ने कहा कि गुरु नानक देव जी का सहिष्णुता, सौहार्द, शांति और भाईचारे का सन्देश आज के युग में और भी सार्थक है।

श्री नकवी ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार "एक भारत श्रेष्ठ भारत" के संकल्प को साकार करने के लिए मजबूती से काम कर रही है। देश की एकता-भाईचारे को नुकसान पहुँचाने की किसी भी साजिश को हमें सफल नहीं होने देना है।

श्री नकवी ने कहा कि किसी को भी और विशेषकर किसी राजनैतिक दल की ओर से ऐसी कोई बयानबाजी नहीं की जानी चाहिए जिससे देश के खिलाफ काम कर रही ताकतों को फायदा हो। लेकिन यह बड़े दुर्भाग्य की बात है कि कुछ दल एवं कुछ लोग आज कश्मीर के मामले पर अलगाववादियों के सुर में सुर मिला रहे हैं।

श्री नकवी ने कहा कि भाजपा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीति का नहीं बल्कि "राष्ट्रनीति" का विषय है। भाजपा की राष्ट्रीय सुरक्षा के सम्बन्ध में बड़ी ही स्पष्ट नीति रही है। राष्ट्रीय हितों से कोई समझौता नहीं किया जा सकता।

श्री नकवी ने कहा कि आतंकवाद-अलगाववाद आज पूरे विश्व के इंसानी मूल्यों और अमन के लिए चुनौती है। हम गुरुनानक देव जी की शिक्षा और सन्देश से ऐसी शैतानी ताकतों को परास्त कर सकते हैं।