Speeches



नई दिल्ली, 27 अक्टूबर, 2017: आज अंत्योदय भवन में ईरान के प्रतिनिधिमंडल से भेंट के दौरान मेरे सम्बोधन के मुख्य अंश:

केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री श्री मुख्तार अब्बास नकवी ने आज यहाँ कहा की आतंकवाद, इंसानियत और इस्लाम दोनों का सबसे बड़ा दुश्मन है और इन शैतानी ताकतों को परास्त करने के लिए पूरे विश्व को एकजुट हो कर काम करना होगा।

अंत्योदय भवन में H.E. हुज्जत उल इस्लाम डा. मोहसेन घोमी एवं H.E. अबूजर इब्राहीमी तोरकमान के नेतृत्व में ईरान के प्रतिनिधिमंडल की श्री नकवी से भेंट में द्विपक्षीय सांस्कृतिक संबंधों एवं आतंकवाद की समस्या पर चर्चा हुई।

श्री नकवी ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार ने आतंकवाद के खिलाफ "जीरो टॉलरेंस" की नीति अपनायी है। श्री नकवी ने कहा कि शांति, एकता, सौहार्द भारत के डीएनए में है। भारत की इसी ताकत के चलते शैतानी ताकतें यहाँ कभी सफल नहीं हो सकती हैं।

श्री नकवी ने कहा कि इस्लाम को आतंकवाद का सुरक्षा कवच बनाने की साजिश में लगे हुए तत्वों को हमें मिल कर परास्त करना होगा।

श्री नकवी ने कहा कि भारत और ईरान के सम्बन्ध बहुत पुराने हैं, मजबूत हैं। पिछले वर्ष प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की ईरान यात्रा से दोनों देशों के बीच संबंधों को नई ऊंचाई मिली है। श्री नकवी ने कहा कि अन्य क्षेत्रों की भांति भारत और ईरान आतंकवाद की समस्या के खिलाफ भी वैश्विक स्तर पर बड़ी महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं।

श्री नकवी ने कहा कि ईरान के प्रतिनिधिमंडल के भारत दौरे से दोनों देशों के संबंधों को और मजबूती मिलेगी।

ईरानी प्रतिनिधिमंडल ने भारत की शांति, सौहार्द की ताकत एवं "अनेकता में एकता" की सांझी विरासत को पूरी दुनिया के लिए एक मिसाल बताया।