Speeches



नई दिल्ली, 26 अक्टूबर 2017:आज अंत्योदय भवन में मलेशिया में शिक्षा के क्षेत्र में काम कर रहे संगठन "पिंटा" के प्रतिनिधिमंडल से मेरी भेंट की प्रेस विज्ञप्ति:

केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री श्री मुख्तार अब्बास नकवी ने आज यहाँ कहा कि भारत सुलभ और गुणवत्तापूर्ण शिक्षा का "हब" बन रहा है जहाँ दुनिया के सभी देशों के नौजवान शिक्षा हेतु बड़ी संख्या में आ रहे हैं।

आज अंत्योदय भवन में मलेशिया में शिक्षा के क्षेत्र में काम कर रहे संगठन "पिंटा" के 7 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल से भेंट के दौरान श्री नकवी ने कहा कि केंद्र की प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की सरकार के पिछले 3 वर्षों के दौरान शिक्षा प्राप्त करने हेतु भारत आने वाले विदेशी छात्रों की संख्या में बड़े पैमाने में बढ़ोतरी हुई है। वहीं देश के गरीब एवं पिछड़े क्षेत्रों में शिक्षा की सुविधा मुहैय्या कराने में बड़ी सफलता मिली है।

श्री नकवी ने कहा कि शिक्षा ही सशक्तिकरण का केंद्र बिंदु है और प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार अल्पसंख्यकों सहित सभी तबकों के शैक्षिक सशक्तिकरण के प्रति मजबूती से काम कर रही है।

"पिंटा" के प्रतिनिधिमंडल की श्री नकवी से भेंट में अल्पसंख्यक समाज के शैक्षिक सशक्तिकरण के विभिन्न कार्यक्रमों पर चर्चा हुई। श्री नकवी ने कहा कि मोदी सरकार का लक्ष्य समाज के हर तबके के बच्चे को बेहतर, गुणवत्तापूर्ण एवं आधुनिक शिक्षा मुहैय्या कराना है।

श्री नकवी ने "पिंटा" के प्रतिनिधिमंडल को मोदी सरकार द्वारा समाज के सभी कमजोर तबकों सहित अल्पसंख्यकों के शैक्षिक सशक्तिकरण एवं रोजगारपरक कौशल विकास के लिए शुरू की गई योजनाओं जैसे "3टी- टीचर, टिफ़िन, टॉयलेट", ग़रीब नवाज़ कौशल विकास योजना, बेगम हजरत महल बालिका छात्रवृति आदि की जानकारी दी।

श्री नकवी ने कहा कि अल्पसंख्यक मंत्रालय ने बड़ी संख्या में मदरसों को "3टी" से जोड़कर उन्हें मुख्यधारा एवं आधुनिक शिक्षा व्यवस्था में शामिल करने हेतु बड़े पैमाने पर अभियान चलाया है।

"पिंटा" प्रतिनिधिमंडल ने बताया कि भारत की तरह मलेशिया में भी सभी धर्मों, संस्कृति के लोग मिलजुल कर शिक्षा एवं विकास के लिए काम कर रहे हैं।

"पिंटा" प्रतिनिधिमंडल से भेंट में अल्पसंख्यक मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी, मौलाना आज़ाद एजुकेशन फाउंडेशन के सचिव, फाउंडेशन के सदस्य, एवं अन्य बुद्धिजीवी भी उपस्थित रहे। "पिंटा" प्रतिनिधिमंडल ने अल्पसंख्यक मंत्रालय द्वारा सभी अल्पसंख्यक तबकों के शैक्षिक सशक्तिकरण के लिए चल रही योजनाओं की सराहना की। प्रतिनिधिमंडल ने केंद्र सरकार द्वारा मदरसों को मुख्यधारा एवं आधुनिक शिक्षा व्यवस्था में शामिल करने के प्रयासों की भी सराहना की।