मुंबई, 17 फरवरी, 2020: आज हज हाउस, मुंबई में हज 2020 के सम्बन्ध में ट्रेनिंग कैंप को सम्बोधित किया। इसमें लगभग 650 ट्रेनर्स शामिल हुए जो अपने-अपने राज्यों में हज पर जाने वालों को मक्का-मदीना में आवास, यातायात, स्वास्थ्य, सुरक्षा से सम्बंधित मुद्दों की जानकारी देंगे। इन ट्रेनर्स में बड़ी संख्या में महिलाएं शामिल हैं। इस अवसर पर हज हाउस में सिविल सेवा परीक्षा लर्निंग सेंटर; गेस्ट रूम; ट्रेनिंग हॉल आदि का उद्घाटन भी किया। भारत में डिजिटल/ऑनलाइन व्यवस्था ने हज यात्रियों के "इज़ ऑफ डूइंग हज" का सपना पूरा किया है। भारत दुनिया का ऐसा पहला देश बन गया है जहाँ हज 2020, सौ प्रतिशत डिजिटल प्रक्रिया से हो रहा है। ऑनलाइन आवेदन, ई-वीजा, हज पोर्टल, हज मोबाइल ऐप, "ई-मसीहा" स्वास्थ्य सुविधा, मक्का-मदीना में ठहरने की बिल्डिंग/ट्रांसपोर्टेशन की जानकारी भारत में ही देने वाली "ई-लगेज टैगिंग" व्यवस्था उपलब्ध है। हज की संपूर्ण प्रक्रिया को शत प्रतिशत डिजिटल/ऑनलाइन करने से बिचौलियों का सफाया हुआ है और हज यात्रा पारदर्शी हुई है। हज सब्सिडी ख़त्म होने के बावजूद भी हज यात्रियों पर बिना कोई अतिरिक्त बोझ डाले हज यात्रा पिछले कई दशकों के मुकाबले बहुत सस्ती हुई है।