लखनऊ, 10 नवम्बर 2017:आज लखनऊ में विश्व के मुख्य न्यायाधीशों व न्यायाधीशों के 18वे अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन को सम्बोधित किया। इस सम्मेलन में लगभग 60 देशों के लगभग 200 मुख्य न्यायाधीश, न्यायाधीश एवं कानूनी क्षेत्र के अन्य दिग्गज शामिल हुए। भारतीय न्यायपालिका विश्व की सबसे मजबूत, स्वतंत्र एवं पारदर्शी न्याय प्रणालियों में से एक है। भारत में न्यायपालिका बिना किसी हस्तक्षेप, दबाव, भेदभाव के अपने संवैधानिक कर्तव्यों का निर्वहन ईमानदारी से करती है।
न्यायिक सुधार की दिशा में PM श्री Narendra Modi की सरकार ने कई कदम उठाये हैं। कई और बड़े कदम की जरुरत है। हमारी सरकार ने अभी तक लगभग 1200 गैर-जरुरी कानूनों को खत्म किया है और लगभग अन्य 1024 गैर-जरुरी कानूनों को खत्म करने के लिए चिन्हित किया है जो जल्द खत्म होंगे।