मुंबई, 07 अक्टूबर, 2017: आज मुंबई में पीएचडी चैम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री द्वारा आयोजित "ग्लोबल फिल्म टूरिज्म कॉन्क्लेव" में शामिल हुआ। फिल्में "आतंकवाद और कट्टरवाद" को "एक्सपोज़ और एलिमिनेट" करने में एक बड़ी भूमिका निभा सकती हैं। भारत का फिल्म उद्योग सामाजिक बुराईयों को खत्म करने, इन बुराइयों के खिलाफ लोगों की चेतना जगाने और सामाजिक सुधार की दिशा में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता रहा है। भारत भौगोलिक, सामाजिक एवं सांस्कृतिक खूबसूरती से भरपूर देश है। भारत दुनिया का “फिल्म टूरिज्म हब” बनने की सभी सुविधाओं, संभावनाओं और संसाधनों से भरपूर है।